उदेश्य

संस्थान के प्रमुख उद्देश्य

भाषा संस्थान , उत्तरप्रदेश शासन की स्वायत्तशासी संस्था है , जो की प्रदेश की भाषा संबन्धी योजनाओं और क्रियाकलापों का सम्पूर्ण कार्य, उत्तरप्रदेश एवं आवश्यक्तानुसार सम्पूर्ण भारतवर्ष के विभिन्न प्रदेशों और संघिय राज्यों में भी निष्पादित करती है |

मुख्यतः इंजीनियरिंग स्वास्थ्य और चिक्त्सिा से सम्बन्धित पाठ्य पुस्तकों एवं पत्रिकाओं का तथा इने अतिरिक्त तकनीकी प्रशासनिक प्रबन्धकीय एवं विधिक तथा अन्य आधुनिक विषयों से सम्बन्धित पाठ्यपुस्तकों एवं पत्रिकाओं का हिन्दी में मौलिक लेखन, अनुवाद और प्रकाशन का कार्य एवं हिन्दी एवं अन्य भारतीय में लिखित में लिखित ऐसी मौलिक पुस्तकों का क्रय और वितरण करना जो विश्वविद्यालयी स्तर पर छात्रों के ज्ञानार्जन और शोध कार्य के लिए उपयोगी और सहायक हो।

हिन्दी माध्यम से शिक्षा देने वाले पब्लिक स्कूलों के लिए अनावर्तक अनुदान की व्यवस्था करना।

विभिन्न विश्वविद्यालयों में तथा भाषा संस्थानों में बोलियाँ तथा अन्य विषयों पर होने वाले शोध कार्यों दुर्लभ एवं अप्रकाशित पाण्डुलिपियों को प्रकाशित करना।

प्राचीन भारतीय भाषाओं के साहित्य को परिरक्षित करने वाली संस्थाओं को, उस साहित्य के हिन्दी एवं अन्य भारतीय भाषाओं में अनुवादप्रकाशन हेतु सहायता प्रदान करना।

बाल सहित्य के विकास के लिए सरल शिक्षाप्रद और नैतिक शिक्षा की पुस्तकों का मौलिक लेखन एवं प्रकाशन करना।

राज्य सरकार की भाषा प्रोत्साहन नीति के अनुसरण में देश एवं प्रदेश के विभन्न क्षेत्रों में समय समय पर भारतीय भाषाओं एवं साहित्य सम्मेलनों समारोहों तथा गोष्ठियों का आयोजन करना।

हिन्दीतर प्रदेशों में हिन्दी भाषा का प्रचार प्रसार करना तथा विदेशों में रहने वाले प्रवासी भारतीयों को हिन्दी भाषा और साहित्य के सम्बन्ध में योगदान के लिए प्रोत्साहित करना।

उत्तरप्रदेश की बोलियों एवं लोक भाषाओं के साहित्य को संरक्षित करना प्रचार-प्रसार करना एवं लोक भाषाओं के साहित्यकारों को सम्मानित समाहूत और पुरुस्कृत करना तथा साहित्यिक सöावना यात्राएँ आयोजित करना।

Video